Bhakt Prahlad

भक्त प्रहलाद

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: १९३४
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
लेबल: जीसीआइएल-एचएमवी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
फ़िल्म क्रेडिट: निर्देशक: के.पी. भावे. कथा: मो.ग. रांगणेकर. पटकथा: के.पी. भावे. अभिनेता: कृष्णकांत, अधिक...
 



गाने


 
न समय हो रात का न दिन न प्रातः काल हो
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
धर्म में विचरैं सदा अरु धर्मने सब काम हों
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
नहीं ऐसो जनम बारम्बार
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
हिले जोबना मोरा रे
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
सुमरन कर भज हे मन निसदिन संकटहारी संवरिया मोरे राम
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
दाता हे जग बिधाता सारा जहान तेरा
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
छाई घटा घनघोर दुःख की प्रभु रे छाई घटा
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
हे प्रभो तेरी निराली शान है
 
गायक: मा. बाबालाल
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जब जब भीर पड़ी भक्तन पे
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
बेकसों पर चर्ख ने बेदाद पर बैदाद की
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मनहरवा मोरा प्यारा सुख दे गयो
गायक: रत्नप्रभा
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली: सुगम, हिन्दुस्तानी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
प्रभु जी आपका गुण गाने वाले और होते हैं
 
गायक: मा. बाबालाल
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
तुम राखो शरम प्यारे
 
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
प्रभु लाज भक्तों की राखे सदा
गायक: रत्नप्रभा
संगीतकार: अन्ना साहब माइनकर
शैली: भजन, हिन्दुस्तानी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 
  • सामान्य ज्ञान उपलब्ध नहीं है



प्रतिक्रिया