Chhappan Chhuri

छप्पन छुरी

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: १९३४
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
 



गाने


 
तेरे ज़ुल्मों की ज़ालिम इस क़दर फ़रियाद करते हैं
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मसीहा हो के बीमारों को किस पर छोड़ जाते हो
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
तन मन धन सब वारूँ
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मैं हूँ वोही जिसके लिए तुम तालब-ए-दीदार हो
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जाओ जाओ सैयाँ तोसे बोलूँगी नाही अब
 
संगीतकार: प्रो. राम टी. हीरा, प्रो. बासरकर
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
सब हैं लोक भिखारी जग में
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
अब न रखो झरी प्यारे
 
संगीतकार: प्रो. बासरकर, प्रो. राम टी. हीरा
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 
  • सामान्य ज्ञान उपलब्ध नहीं है



प्रतिक्रिया