Raat Ki Baat

रात की बात

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: १९३५
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
 



गाने


 
नक्शे उम्मीद जो आँखों में नज़र आता है
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
छबि कैसी मन को लुभाए ह्रदय में उतरी जाय
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जिया लुभाय मन सुहाय
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
हमेशा हुस्न तेरा रश्केलाला ज़ार रहे
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
इस जग में नहीं कोई हमारा
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मनमोहन रूप दिखाए गयो
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
बिन श्याम सुन्दर धड़के मोरी छातियाँ
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
चलो चलो प्यारी काहे को लजाव
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
नाहक कीन्ही बेदर्दी से प्रीत
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
क्या देखते हो मुझको
 
संगीतकार: बलराम - IV
गीतकार: मुंशी मंज़र
शैली:
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 
  • सामान्य ज्ञान उपलब्ध नहीं है



प्रतिक्रिया