Sasural

ससुराल

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: १९६१
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी, शैलेंद्र
लेबल: सारेगामा
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम क्रेडिट: MUSIC ASSISTANTS: Dattaram, Sebastian.
 
फ़िल्म क्रेडिट: निर्देशक: टी. प्रकाश राव. निर्माता: एल.वी. प्रसाद. पटकथा: इन्दर राज आनंद. संवाद: इन्दर राज आनंद. अभिनेता: राजेंद्र कुमार, अधिक...
 



गाने


 
एक सवाल मैं करूँ
गायक: लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र
शैली: फ़िल्मी, सुगम
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
तेरी प्यारी प्यारी सूरत को किसी की नज़र ना लगे
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जाना तुम्हारे प्यार में
गायक: मुकेश
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
क्या मिल गया हाय क्या खो गया
गायक: लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
सुन ले मेरी पायलों के गीत साजना
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
अपनी उल्फ़त पे ज़माने का
गायक: लता मंगेशकर, मुकेश
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
शैली: फ़िल्मी, सुगम
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
ये अलबेला तौर न देखा
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
सता ले ऐ जहाँ
गायक: मुकेश
संगीतकार: शंकर - जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 

सामान्य ज्ञान


 

    एल्बम

  • Shammi Kapoor was originally slated to play the lead role in this 1961. However, when director T. Prakash Rao had an argument with him on the sets of another film, "College Girl" (1960), he dropped Shammi Kapoor and replaced him with Rajendra Kumar.[MR15]

    गीत

  • तेरी प्यारी प्यारी सूरत को किसी की नज़र ना लगे - शंकर - जयकिशन की इस रचना में शम्मी कपूर का भी योगदान था. जब उनके बीच कुछ मतभेद के कारण निर्देशक टी. प्रकाश राव ने शम्मी कपूर के बदले राजेन्द्र कुमार को शामिल किया था तब शम्मी कपूर ने जयकिशन से कहा था कि यह गीत उनकी फ़िल्म "जंगली" (१९६१) में किया जाए. जयकिशन ने उनकी बात मानने से इंकार कर दिया था. शम्मी कपूर उस समय तो नाराज़ हुए थे लेकिन बाद में उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ था.[1][MR15]



सन्दर्भ


 

प्रतिक्रिया