Slumdog Millionaire

स्लमडॉग मिलियनैर

एल्बम वर्ग: अंग्रेज़ी, फ़िल्म
वर्ष: २००९
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: वेंडी पार, ब्लाज़े, गुलज़ार, तन्वी शाह, ए.आर. रहमान, एम.आइ.ए., रकीब आलम
लेबल: टी-सीरीज़
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
फ़िल्म क्रेडिट: निर्देशक: डैनी बॉयल. निर्माता: क्रिस्टियन कोलसन. कथा: विकास स्वरूप. पटकथा: साइमन बोफ़ॉय. अभिनेता: देव पटेल, अधिक...
 



गाने


 
रिंगा रिंगा
 
गायक: अलका याज्ञिक, इला अरुण
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: रकीब आलम
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जय हो
गायक: सुखविंदर सिंह, तन्वी शाह, महालक्ष्मी अय्यर, विजय प्रकाश
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: गुलज़ार, तन्वी शाह
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
ओ साया
 
गायक: एम.आइ.ए., ए.आर. रहमान
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: ए.आर. रहमान, एम.आइ.ए.
शैली: पॉप
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
रायट्स
 
संगीतकार: ए.आर. रहमान
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मौसम एंड एस्केप
 
संगीतकार: ए.आर. रहमान
शैली: रॉक, फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
लिक्विड डान्स
 
संगीतकार: ए.आर. रहमान
शैली: फ़िल्मी, कर्नाटिक, हिप-हॉप
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
लतिकास थीम
 
संगीतकार: ए.आर. रहमान
शैली: पॉप, न्यू एज
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
मिलियनैर
 
गायक: मधुमिता
संगीतकार: ए.आर. रहमान
शैली: एलेकट्रॉनिक
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
गैंगस्टा ब्लूज़
 
गायक: ब्लाज़े, तन्वी शाह
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: ब्लाज़े
शैली: हिप-हॉप
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
ड्रीम्स ऑन फ़ायर
गायक: सुज़ैन डी'मेलो
संगीतकार: ए.आर. रहमान
गीतकार: वेंडी पार, ब्लाज़े
शैली: पॉप
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 

    एल्बम

  • इस फ़िल्म के लिए ऑस्कर की बेस्ट ओरिजिनल स्कोर पुरस्कार स्वीकार करते हुए ए.आर. रहमान ने उनकी माँ को यह पुरस्कार समर्पित करते हुए "दीवार" (१९७५) फ़िल्म की मशहूर लाइन कही - "मेरे पास माँ है".[1]
  • इस फ़िल्म के मुख्य पात्र से एक क्विज़ में पूछा जाता है कि "दर्शन दो घनश्याम" गीत को किसने लिखा था और क्विज़मास्टर उस पात्र का उत्तर - सूरदास - स्वीकार कर लेता है. दरअसल इस गीत को गोपाल सिंह नेपाली ने कवि नरसिंह मेहता की कविताओं से प्रेरित हो कर फ़िल्म "नरसी भगत" (१९५७) के लिए लिखा था. इस गीत के संगीतकार रवि ने फ़िल्म के निर्माता पर उनके गीत को अनुमति के बिना उपयोग करने के लिए मुक़दमा चलाया था. गोपाल सिंह नेपाली के पुत्र नकुल सिंह नेपाली ने भी फ़िल्म के निर्माता पर मानहानि का मुक़दमा चलाया था.[2]
  • यह फ़िल्म लेखक विकास स्वरूप की पहली उपन्यास "क्यू एंड ए" पर आधारित थी.

    गीत

  • जय हो - इस गीत की पुसीकैट डॉल्ज़ वर्ज़न का सुझाव इंटरस्कोप रेकॉर्ड्ज़ के जिमी आयवीन का था. इस वर्ज़न को अलग से एक सिंगल के तौर में जारी किया गया था.
  • जय हो - गुलज़ार ने इस गीत को दरअसल "युवराज" (२००८) फ़िल्म के लिए लिखा था. "युवराज" के निर्देशक सुभाष घई को लगा था कि इस गीत के निर्मल बोल उनके फ़िल्म में नहीं जचेंगे और उन्होंने गुलज़ार से एक और गीत की मांग की थी. ए.आर. रहमान ने फिर सुभाष घई से इस गीत को इस फ़िल्म में इस्तमाल करने की अनुमति मांगी थी. सुभाष घई की अनुमति के साथ गुलज़ार ने इस गीत के बोल कुछ बदले थे और फिर रहमान ने इस गीत को रेकॉर्ड किया था.[3][4]



सन्दर्भ


 

प्रतिक्रिया