Likhi Naseeb Mein Hain Thokaren Zamane Ki

लिखी नसीब में हैं ठोकरें ज़माने की

गायक: मोती
संगीतकार: ज़फ़र खुर्शीद
गीतकार: राज़ीउद्दीन, अर्श हैदरी
शैली: फ़िल्मी, ग़ज़ल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम: दिल
वर्ष: १९४६
एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म


विडियो


 




पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 
  • ज़फ़र ख़ुर्शीद की यह गीत इस फ़िल्म के बाद "रास्ता" (१९४७) फ़िल्म में भी थी. यह बात स्पष्ट नहीं है कि "रास्ता" फ़िल्म में इस गीत को वैसे ही उपयोग किया गया था या फिर से रेकॉर्ड किया गया था.[1]


सन्दर्भ


 

इस तरह के गाने

 
Likhi Naseeb Mein Hai Thokren Zamane Ki लिखी नसीब में है ठोकरें ज़माने की
 
एल्बम: रास्ता
गायक: मोती
संगीतकार: ज़फ़र खुर्शीद
गीतकार: राज़ीउद्दीन, अर्श हैदरी
शैली: फ़िल्मी, ग़ज़ल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
 
Sunti Nahin Duniya Kabhi Fariyad Kisi Ki सुनती नहीं दुनिया कभी फ़रियाद किसी की
 
एल्बम: रेणुका
गायक: मलिक सरदार
संगीतकार: सरदार मलिक
गीतकार: क़मर जलालाबादी
शैली: फ़िल्मी, ग़ज़ल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
 
Toota Hua Dil Le Ke Chale टूटा हुआ दिल ले के चले
 
एल्बम: एक रोज़
गायक: जी.एम. दुर्रानी
संगीतकार: श्याम सुंदर
गीतकार: सरशार सैलानी
शैली: फ़िल्मी, ग़ज़ल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
 


प्रतिक्रिया