Ghar Yahan Basaane Aaye The

घर यहाँ बसाने आए थे

गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: अनिल बिस्वास
गीतकार: गोपाल सिंह नेपाली
शैली: फ़िल्मी, सुगम
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम: गजरे
वर्ष: १९४८
एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म


विडियो


 




पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 
  • अनिल बिस्वास ने कुछ वर्षों बाद इस गाने के मुखड़े की धुन कुछ बदलाव के साथ उनके एक बहुत ही लोकप्रिय गीत में उपयोग किया था - "सीने में सुलगते हैं अरमाँ" ("तराना", १९५१).[1][MR10]


सन्दर्भ


 

इस तरह के गाने

 
Mujhe Bhi Maut Ka Paigham Aa Jaye मुझे भी मौत का पैग़ाम आ जाए
  • एल्बम: लुटेरा
    गायक: लता मंगेशकर
    संगीतकार: सी. रामचंद्र
    गीतकार: राजेंद्र कृष्ण
    शैली: फ़िल्मी, सुगम
    सम्पूर्ण रेटिंग:
    मेरी रेटिंग:
    एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
     
    Zindagi Ki Roshni To Kha Gayi ज़िन्दगी की रोशनी तो खा गई
     
    एल्बम: लाडली
    गायक: लता मंगेशकर
    संगीतकार: अनिल बिस्वास
    गीतकार: चंद्रशेखर पांडे
    शैली: फ़िल्मी, सुगम
    सम्पूर्ण रेटिंग:
    मेरी रेटिंग:
    एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
     
    Band Jeevan Ki Khidki बंद जीवन की खिड़की
     
    एल्बम: ऊंच नीच
    गायक: उत्पला सेन
    संगीतकार: पंकज मलिक
    गीतकार: रमेश पांडे
    शैली: फ़िल्मी, सुगम
    सम्पूर्ण रेटिंग:
    मेरी रेटिंग:
    एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
     


    प्रतिक्रिया